अदरक के फायदे और नुकसान:Benefits and Side Effects of Ginger
Ginger

अदरक के फायदे और नुकसान:Benefits and Side Effects of Ginger

अदरक के फायदे और नुकसान

अदरक एक फूल वाला पौधा है, जिसकी उत्पत्ति दक्षिण पूर्व एशिया में हुई थी। यह ग्रह पर सबसे स्वास्थ्यप्रद (और सबसे स्वादिष्ट) मसालों में से एक है।

यह जिनगीबरसै (Zingiberaceae) परिवार से संबंधित है, और यह हल्दी, इलायची और गैलंगल से निकटता से संबंधित है।अदरक स्वाद में तीखी होती है।

नवीनतम शोध से पता चला है कि इसमें इम्युनो-मॉड्यूलेटरी, एंटी-ट्यूमरोजेनिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-हाइपरग्लाइकेमिक और एंटी-इमेटिक क्रियाएं हैं।

अदरक कई औषधीय गुणों से भरपूर है जिसमें प्रचूर मात्रा में विटामिन ए, विटामिन डी और विटामिन ई है।

Baidyanath Vita ex Gold Plus -Pack of 20 Capsules | Made with Pure Himalayan Shilajit, Ashwagandha & Safed Musli| Boosts Strength, Power & Stamina

अदरक के फायदे: Benefits of Ginger

  • अदरक एक पाचन उत्तेजक है। आयुर्वेद में, यह कहा जाता है कि यह पाचन को बढ़ावा देता है और भूख को कम करने में भी मदद करता है।
  • यह पोषक तत्वों के आत्मसात और परिवहन में भी सुधार करता है |
  • अदरक सर्दी और खांसी में बहुत उपयोगी है। जब भी जुकाम शुरू होता है, अदरक की चाय पीने से मदद मिलती है।
  • अदरक मतली(nausea) के इलाज में बहुत उपयोगी है। बस ताजा अदरक को पानी में उबालकर दिन भर पीने से मॉर्निंग सिकनेस और मोशन सिकनेस में भी मदद मिलेगी। अदरक के ताजा टुकड़ों को चबाना पोस्ट ऑपरेटिव मतली में बहुत मददगार होता है।
  • यह पेट फूलने से राहत दिलाने में भी बहुत मददगार है।
    अदरक मांसपेशियों में ऐंठन से राहत देने में बहुत मददगार है, विशेष रूप से प्रेरित मांसपेशियों में ऐंठन से निपटने में। ऐसे मामलों में ताजा अदरक का रस निकाला जाता है और इसे ऐंठन वाली मांसपेशी पर रगड़ा जाता है।
  • यहां तक ​​कि जब ग्रीवा(cervical ) स्पोंडिलिटिस में ग्रीवा की मांसपेशियों की जकड़न होती है तब भी यह मदद करता है।
  • यह माइग्रेन में बहुत उपयोगी है। यहाँ ताजा अदरक का रस निकाला जाता है और फिर इसे माथे पर लगाया जाता है।
  • अदरक लार(saliva)के उत्पादन में भी मदद करता है। इसलिए जब भी सूखा मुंह हो तो अदरक चबाना बहुत मददगार होता है। यह उन कैंसर रोगियों में भी प्रभावी है, जो रेडियोथेरेपी के बाद शुष्क मुंह से पीड़ित हैं।
  • अदरक लंबे समय तक उपयोगी बनी रहे उस के लिये उसे धूप में सुखाया जाता है।
  • कुछ जगह दूध में डूबोकर सूखने के बाद उसका सौन्ठ बनाया जाता है। सौन्ठ अदरक से भी ज्यादा गरम होती है। सौन्ठ से तेल निकाला जाता है।
  • अगर आप अदरक को लम्बे समय तक संभल कर रखना चाहते हैं, तो उसे गीली मिट्टी में भी दबा कर रखा जा सकता है।

अदरक के नुकसान: Side Effects of Ginger

  • गर्भावस्था में परेशानी
  • खून में थक्कों(Blood clot) की समस्या
  • एसिडिटी होना

अदरक को प्रति दिन ५ ग्राम से ज्यादा सेवन न करे |

Man Matters Ashwagandha, Safed Musli, Gokshura, Kaunch beej & L’ Arginine Tablets | Indian Ginseng| | 8 Natural Herbs | No Side Effects| 60 Tablets Follow us on facebook

Leave a Reply