लौंग के फायदे और नुकसान:Benefits and Side Effects of Clove
Benefits and Side Effects of Clove

लौंग के फायदे और नुकसान:Benefits and Side Effects of Clove

लौंग

लौंग भारत और इंडोनेशिया के मूल निवासी हैं। वे एक ही परिवार में नीलगिरी और अमरूद (म्यर्टेसी परिवार) के एक पेड़ की सुगंधित सूखे फूल की कली हैं। लौंग का आकार नाखून जैसा होता है।

Clove Plant

लौंग एक महत्वपूर्ण मसाला है और इसे “माँ प्रकृति की एंटीसेप्टिक” के रूप में भी जाना जाता है।

Green Clove Buds

अंग्रेजी नाम ‘clove’ लैटिन ‘clavus’ से बना है जिसका अर्थ है कील (nail)।

लौंग के फायदे: Benefits Of Clove

यह दांत दर्द के लिए एक प्रभावी घरेलू उपचार है। दर्द से राहत पाने के लिए आप दर्द वाले दांत के पास एक पूरी लौंग रख सकते हैं।
या लौंग के तेल को दांत में लगाने से दांत दर्द से तुरंत राहत मिलती है।

इसलिए लौंग का इस्तेमाल अक्सर टूथपेस्ट बनाने में किया जाता है।

लौंग अपने रोगाणुरोधी, एंटी-ऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लामेन्टरी गुणों के कारण खांसी और गले में खराश से राहत दिलाने में मदद कर सकती है।

अगर आप जोड़ों के दर्द से परेशान हैं तो बस लौंग के तेल की कुछ बूंदों को लेकर दर्द वाले जोड़ में मालिश करें। यह दर्द की गंभीरता को काफी कम कर देगा।

जब आप एक लौंग को चबाते हैं, तो यह शरीर में कुछ पाचक एंजाइमों के स्राव को उत्तेजित करता है जो पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह मसाला मतली, गैस्ट्रिक चिड़चिड़ापन, अपच और पेट फूलना का भी इलाज कर सकता है।

आयुर्वेद कहता है कि कुछ मसाले रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं और लौंग उनमें से एक है। सूखे लौंग की कलियों में एक यौगिक होता है जो शरीर में सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या को बढ़ाता है।

यह प्रतिरक्षा (इम्युनिटी) को बढ़ाता है और आपके शरीर को हमलावर रोगजनकों से लड़ने में सक्षम बनाता है।

अगर आपको बार-बार हिचकी आती है तो दो या तीन लौंग मुंह में डालकर चूसें। यह बहुत फायदेमंद होगा।

अगर आप दिमागी तनाव और सिर दर्द से परेशान हैं तो लौंग को पीसकर उसमें थोड़ा सा पानी मिलाकर अपने माथे पर लगाएं। इससे आपको काफी राहत मिलेगी।

लौंग के दुष्प्रभाव : Side Effects of Clove

  • खुजली
  • हल्की त्वचा की जलन; या
  • लौंग को मुंह के अंदर लगाने के बाद मुंह में जलन, मसूड़ों से खून आना या सूज जाना ।
  • एक संभोग सुख (स्खलन में देरी) होने में परेशानी|
  • पेट में जलन का अहसास
  • उल्टी
  • गले में खराश
  • वैज्ञानिक प्रमाणों के अभाव में स्तनपान और गर्भावस्था के दौरान लौंग के औषधीय प्रयोग से बचें |

यह सलाह दी जाती है कि आप एक दिन में 2 से 3 लौंग से ज्यादा नहीं खा सकते हैं। लौंग के अत्यधिक सेवन से द्रव असंतुलन और लीवर खराब हो सकता है।

Follow us on facebook

Leave a Reply